Ministry of Education, Government of India
 ईमेल हेल्पडेस्क : helpdesk-nat [at] gov [dot] in

शिक्षकों
के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार निरूपण

शिक्षकों को राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित करने का उद्देश्य देश के कुछ श्रेष्ठ शिक्षकों के अदिवतीय योगदान को पहचानना व सराहना है। यह पुरस्कार ऐसे होनहार तथा कर्त्तव्यनिष्ठ शिक्षकों के लिए एक प्रेरणास्त्रोत है जिन्होंने अपनी प्रतिबद्धता और परिश्रम के माध्यम से न केवल स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार किया है, बल्कि अपने छात्रों के जीवन को भी समृद्ध बनाया है।

महत्वपूर्ण तारीख

  • 1 जून 2021 से 30 जून, 2021
    ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित करने के लिए वेब-पोर्टल खोलना।
  • 1 जुलाई 2021 से 15 जुलाई, 2021
    जिला चयन समिति का नामांकन राज्य चयन समिति को ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से अग्रेषित करना।
  • 16 जुलाई 2021 से 30 जुलाई 2021
    राज्य चयन समिति की शार्टलिस्‍ट को ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से स्वतंत्र राष्ट्रीय जूरी को अग्रेषित करना

शिक्षक पुरस्कारों हेतु शिक्षकों की पात्रता की शर्तें

  • i) निम्नलिखित श्रेणियों के तहत मान्यता प्राप्त प्राथमिक/माध्‍यमिक/उच्च/उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में काम करने वाले स्कूल शिक्षक और स्कूलों के प्रमुख:
  • क) राज्य सरकार/संघ राज्‍यक्षेत्र प्रशासन द्वारा संचालित स्कूल, स्थानीय निकायों द्वारा संचालित स्कूल, राज्य सरकार/संघ राज्‍यक्षेत्र प्रशासन द्वारा सहायता प्राप्त स्कूल।
  • ख) केन्द्रीय सरकार के स्कूल अर्थात केंद्रीय विद्यालय (केवीएस), जवाहर नवोदय विद्यालय (जेएनवी), रक्षा मंत्रालय (एमओडी) द्वारा संचालित सैनिक स्‍कूल, परमाणु ऊर्जा शिक्षा सोसाइटी (एईईएस) द्वारा संचालित स्कूल।
  • ग) केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) से संबद्ध स्कूल (उपर्युक्‍त (क) और (ख) के अलावा)।
  • घ) काउंसिल फॉर इंडियन स्कूल्स सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (सीआईएससीई) से संबद्ध स्कूल (उपर्युक्‍त (क), (ख) और (ग) के अलावा)।
  • ii) सामान्य रूप से, सेवानिवृत्त शिक्षक पुरस्कार के लिए पात्र नहीं होते हैं, लेकिन उन शिक्षकों पर विचार किया जा सकता है जिन्‍होंने कैलेंडर वर्ष के एक भाग (कम से कम चार महीने अर्थात 30 अप्रैल तक, जिस वर्ष से राष्ट्रीय पुरस्कार से संबंधित हैं) तक कार्य किया हो, यदि वे अन्य सभी शर्तों को पूरा करते हैं ।
  • iii) शैक्षिक प्रशासक, शिक्षा निरीक्षक, और प्रशिक्षण संस्‍थान के कर्मचारी इन पुरस्कारों के लिए पात्र नहीं हैं।
  • iv) शिक्षक/मुख्‍याध्‍यापक को ट्यूशनों में शामिल नहीं होना चाहिए।
  • v) केवल नियमित शिक्षक और विद्यालय प्रमुख ही पात्र होंगे।
  • vi) संविदा शिक्षक और शिक्षामित्र पात्र नहीं होंगे।

आवेदन और चयन की प्रक्रिया:

  • क) सभी आवेदन एक ऑनलाइन वेब पोर्टल के माध्यम से प्राप्त किए ।
  • ख) शिक्षा मंत्रालय भी पोर्टल में डेटा प्रविष्टि के दौरान पोर्टल में समय पर प्रवेश और तकनीकी और परिचालन मुद्दों के समाधान के बारे में राज्यों/संघशासित प्रदेशों के साथ फिर से समन्वय होगा।
  • ग) एम ओ ई विकास और पोर्टल के लिए पूरा खर्च वहन करेगा ।
  • घ) राज्य/संघ राज्‍यक्षेत्रों के मामले में शिक्षक और विद्यालय प्रमुख स्वयं निर्धारित कट-ऑफ तारीख से पहले वेब पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन पत्र भरकर सीधे आवेदन करेंगे ।
  • ङ) प्रत्येक आवेदक प्रवेश पत्र के साथ ऑनलाइन, एक पोर्टफोलियो जमा करेगा । पोर्टफोलियो में सभी संबंधित सहायक सामग्री जैसे दस्तावेज़, उपकरण, गतिविधियों की रिपोर्ट, क्षेत्र का दौरा, तस्वीरें, ऑडियो या वीडियो आदि शामिल होंगे।
  • च) आवेदक द्वारा घोषणा: प्रत्येक आवेदक यह घोषणा पत्र देगा कि सभी दी गई जानकारी/डेटा उसकी/उसके ज्ञान के अनुसार सही है और अगर बाद की तारीख में कुछ भी असत्‍य पाया जाता है, तो उसके विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई की जा सकती है।

शिक्षकों के चयन हेतु मार्गदर्शन देने के लिए विभिन्‍न स्तर:

शिक्षकों का मूल्यांकन संलग्‍नक-। में दिए गए मूल्यांकन मैट्रिक्स के आधार पर किया जाएगा । मूल्यांकन मैट्रिक्स में मूल्यांकन के लिए दो प्रकार के मानदंड हैं:

  • क) उद्देश्य मानदंड: इसके तहत शिक्षकों को प्रत्येक वस्तुनिष्ठ मानदंड के विरुद्ध अंक प्रदान किए जाएंगे । इन मानदडों में 100 में से 20 को वेटेज दिया जाता है ।
  • ख) मानदंड प्रदर्शन के आधार पर : इसके तहत , शिक्षकों को प्रदर्शन के आधार पर मानदंडों पर अंक दिए जाएंगे अर्थात सीखने के परिणामों में सुधार करने के पहल, किए गए अभिनव प्रयोग, अतिरिक्त और सह-पाठयक्रम गतिविधियों का आयोजन, शिक्षण-अध्‍ययन सामग्री का प्रयोग, सामाजिक गतिशीलता के उपयोग के संगठन, छात्रों आदि के लिए शारीरिक शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए अनुभवात्मक अधिगम को सुनिश्चित करना, अनूठे तरीके से छात्रों को शारीरिक शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए अद्धितीय विधि आदि। इन मानदंडों को 100 में से 80 की अधिकारिता दी गई है।
और 

पुरस्कार के नागरिक: NAT-2020

Generic placeholder image

श्री मनोज कुमार लाकड़ा, शिक्षक,
सरकारी वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल बजघेरा गुरुग्राम, बजघेरा, गुरुग्राम, हरियाणा, 122017

श्री मनोज कुमार लाकड़ा ने छात्रों के लिए शैक्षिक सामग्री बढ़ाने और बदले में छात्र हित को आकर्षित करने के लिए आईटी के उपयोग में कई नवाचार लाए हैं। उनके सरल उपकरण छात्रों को बहुत ही रचनात्मक तरीके से पढ़ाने में मदद करते हैं। ये सभी पर्यावरण के अनुकूल, टिकाऊ और आसानी से ले जाने योग्य हैं। उन्होंने एक प्रणाली विकसित की है जो छात्रों को डिजिटल रूप से ट्रैक करने की अनुमति देती है।

Generic placeholder image

श्री नरदेव सिंह, व्याख्याता
जीएसएसएस बयार, बयार, बिझारी, हमीरपुर, हिमाचल प्रदेश, 177119

एक शिक्षक के रूप में श्री नरदेव सिंह ने छात्रों के लिए आसान और आकर्षक, रसायन विज्ञान में कठिन अवधारणाओं/संकल्पनाओं को सीखाने के लिए नवीन तरीकों का उपयोग किया है। उन्होंने कम लागत वाली शिक्षण सामग्री विकसित करने पर काम किया है और अपने छात्रों से संवाद करने के लिए आईसीटी का भी अच्छा उपयोग किया है। उन्होंने वंचितों की शिक्षा का समर्थन किया है और उच्च नामांकन के लिए स्थानीय समुदायों तक पहुंच बनाई है। उन्होंने स्कूल के लिए इन्फ्रा-स्ट्रक्चर को बेहतर बनाने के लिए फंड जुटाने के कार्यक्रमों का संचालन करने में मदद की है और स्थानीय समुदाय के साथ एक अच्छा तालमेल बनाए रखा है।

Generic placeholder image

श्री राजिंदर कुमार, शिक्षक,
सरकारी प्राइमरी विद्यालय वाराभिका, वाराभिका, जैतू, फरीदकोट, पंजाब, 151205

श्री राजिंदर कुमार ने अपने स्कूल को बेहतर बनाने के लिए कई कम लागत की पहल विकसित करके अपने स्कूल को समर्पित सेवा प्रदान की है, प्रभावी कक्षा लेन-देन के लिए आईटी उपकरणों का उपयोग, धीमी शिक्षार्थियों के लिए भाषा प्रयोगशाला और कक्षाओं के लिए व्यावहारिक फर्नीचर के साथ-साथ अन्य व्यावहारिक छात्र समर्थन व्यावसायिक शिल्प जैसी प्रणालियाँ। राज्य के सैकड़ों स्कूलों में उनके प्रयोग करने योग्य कम लागत वाले स्कूल नवाचारों को साझा किया गया है।

और 


© शिक्षा मंत्रालय द्वारा सामग्री का स्वामित्व, अद्यतन और बनाए रखना|
इस वेबसाइट का विकास और संचालन राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय,
भारत सरकार द्वारा आयोजित और बनाए रखा है।